Vyakaran kise kahate hain व्याकरण क्या हैं जाने विस्तार से

Vyakaran kise kahate hain | व्याकरण क्या हैं जाने विस्तार से

Vyakaran kise kahate hain ( व्याकरण ):- आज हम आपको व्याकरण की पूरी जानकारी देने वाले हैं जिसके वारें में जानना हम सभी के लिए बहुत ही जरूरी हैं । क्योकि व्याकरण के द्वारा ही हम बहुत कुछ सीखते हैं । व्याकरण क्या हैं व्याकरण की जानकारी क्यू इतना जरूरी हैं चलिए जानते हैं।

Noteहिंदी व्याकरण का जनक श्री दामोदर पंडित को माना गया है। जिन्होंने 12 वीं सदी के दौरान उक्ति व्यक्ति प्रकरण नाम से एक महत्वपूर्ण हिंदी ग्रंथ की रचना की थी।

Vyakaran kise kahate hain ( व्याकरण ) परिभाषा

व्याकरण वह विद्या है जिसके द्वारा हम हिंदी भाषा को शुद्ध बोलना, पढ़ना एवं लिखना सिखाते हैं उसे व्याकरण ( Vyakaran ) कहते हैं !

दूसरें शब्दो मेें:- व्याकरण हिंदी भाषा की वह शाखा है जिसमें भाषा का विश्लेषण एवं विवेचन गहराई से किया गया हो। व्याकरण हिंदी भाषा के अध्ययन का महत्त्वपूर्ण अंग है

भाषा की शुद्धता के लिए ही व्याकरण के 3 अंग हैं-

व्याकरण के अंग :-

हिंदी व्याकरण के कुल 3 अंग हैं।

1-वर्ण विचार
2-शब्द विचार
3-वाक्य विचार

1. वर्ण विचार- वर्ण विचार हिंदी व्याकरण का पहला खंड है, जिसमें भाषा की मूल इकाई ध्वनि तथा वर्ण पर विचार किया जाता है। वर्ण विचार तीन प्रकार के होते हैं। इसके अंतर्गत हिंदी के मूल अक्षरों की परिभाषा, भेद-उपभेद, उच्चारण, संयोग, वर्णमाला इत्यादि संबंधी नियमों का वर्णन किया जाता है।

2. शब्द विचार- शब्दों के भेद, व्युत्पत्ति और रचना आदि के विषय पर विचार किया जाता है। शब्द विचार हिंदी व्याकरण का दूसरा खंड है जिसके अंतर्गत शब्द की परिभाषा, भेद-उपभेद, संधि, विच्छेद, रूपांतरण, निर्माण आदि से संबंधित नियमों पर विचार किया जाता है।शब्द की परिभाषा- एक या अधिक वर्णों से बनी हुई स्वतंत्र सार्थक ध्वनि शब्द कहलाता है। जैसे- एक वर्ण से निर्मित शब्द-न (नहीं) व (और) अनेक वर्णों से निर्मित शब्द-कुत्ता, शेर,कमल, नयन, प्रासाद, सर्वव्यापी, परमात्मा।

3. वाक्य विचार- वाक्यों की रचना, उनके भेन्द्र विराम – चिह्नो आदि पर विचार किया जाता है।

कुछ अन्य  Topics जिनको आप को पढ़ना चाहिए-

हन्दी व्याकरण के अन्य रूप जिनको पढ़कर हम अपने व्याकरण के ज्ञान को और भी ज्यादा बढ़ा सकते हैं-

हिन्दी व्याकरण (Hindi Grammar ):- हिन्दी भाषा – वर्णमाला – विराम चिन्ह – कारक – अव्यय – अलंकार – सर्वनाम – संज्ञा – क्रिया – विशेषण – उपसर्ग – समास – रस – छंद – पदबंध – प्रत्यय – वचन – पर्यायवाची शब्द – विलोम शब्द – शब्द – मुहावरा – काल – अनेकार्थी शब्द – तत्सम तद्भव शब्द – क्रिया विशेषण – वाच्य – लिंग – निबन्ध लेखन – वाक्यांशों के लिए एक शब्द – संधि विच्छेद

Leave a Comment

Your email address will not be published.